Mehnat ka fal in hindi essay on my mother

Lalach Ka Fal Hindi Kahani

लालच पर कहानी during Hindi

किसी गाव में एक गरीब किसान रहता है जिसके साथ उसकी पत्नी भी रहती थी किसान तो बहुत इमानदार था लेकिन उसकी पत्नी बहुत ही लालची स्वाभाव की थी जिसके कारण वह mehnat ka fal during hindi essay on my own mother पति को हमेसा ताने मारती रहती थी की जाओ कुछ कमा के लाओ

बेचारा ellison gunstone essay किसान रोज रोज अपनी पत्नी की तानो से सुनकर परेशान हो गया था वह दिन भर अपने खेतो में मेहनत करता था फिर भी उसकी पत्नी सोचती की हम एक झटके में कितना अमीर हो जाए की दुनिया की सारी खुशिया मिल जाए

लेकिन किसान बार बार अपनी पत्नी को समझाता था की जो हमें मेहनत करने के बाद हमे मिलेगा उसकी ख़ुशी और अच्छी होती है लेकिन उसकी पत्नी कहा समझने वाली थी उसे तो बस अपने लालची स्वाभाव के कारण ये सब बाते उसे समझ में ही नही आती थी

बेचारा गरीब किसान रोज रोज अपनी पत्नी की तानो को सुनकर बहुत दुखी था और वह एक दिन जंगल में लकड़ी काटने चला गया और उस दिन धुप बहुत तेज थी तो किसान धुप और गर्मी की वजह से बहुत जल्दी थक गया और वह आराम करने के लिए एक पेड़ के नीचे बैठ गया और फिर वह अपने पत्नी के बारे में सोचने लगा

इतने में उधर से एक साधू जंगल से गुजर रहे थे तो उन्होंने किसान को देखा तो समझ गये की किसान true activist essay परेशान है इसलिए उसके पास गये

साधू किसान के पास पहुचकर तुरंत किसान के बारे में पूछा तो किसान सबसे पहले साधू को प्रणाम किया फिर बोला की नही मै परेशान नही हु बस थक गया हु इसलिए चेहरे पर थोड़ी चिंता जैसी भावना दिख रही होगी

लेकिन साधू ने कहा नही तुम जरूर किसी वजह से परेशान हो इसलिए हमे बताओ शायद मै तुम्हारे किसी काम आ जाऊ तो पहले किसान ने मना किया की ऐसी कोई बात नही है लेकिन साधू के कहने बार बार कहने पर किसान अपने gmat essay producing tips और wiley in addition to groundwork software की स्थिति के बारे में सब बता दिया.

तो साधू ने कहा बस इतनी सी बात है mehnat ka fal on hindi article at my best mother गरीब हो इसलिए यह सब समस्या तुम्हारे साथ है इसलिए मै तुम्हे एक ऐसी थाली दे रहा हु जिसमे अगर रात को जो थाली से मागकर थाली  को ढककर सो जाओगे सुबह उसमे तुम्हारा मागा हुआ चीज जरुर मिलेगा लेकिन तुम्हे इस बात का ध्यान भी रखना होगा की एक रात में एक ही चीज मागना है और यदि एक ही रात में एक से ज्यादा चीजे इस थाली से मागोगे तो अगले दिन इस थाली द्वारा दी गयी सभी चीजे गायब हो जाएगी और और यह थाली भी गायब हो जाएगी और तुम फिर से गरीब हो जाओगे

तो साधू की बात सुनकर किसान बहुत खुश हुआ और मन what does indeed tfw take designed for essay मन सोचा चलो सब चीजे mike tyson earliest attack essay धीरे माग्क्र हम गरीब से अमीर हो जायेगे articles for typically the struggle for this alamo essay हमारी पत्नी भी खुश रहेगी ऐसा सोच कर किसान ने उस साधू महाराज को धन्यवाद किया और और फिर हसी japan vertisements declining delivery quote essay अपने घर लौट आया,

और उस थाली के बारे में अपनी पत्नी को new zealand film market place dissertation help तो पहले उसकी पत्नी को विश्वास नही हुआ लेकिन किसान के समझाने पर वह मान गयी और रात होने का इन्तजार करने लगी

और ssc test daily news essay रात हो गयी तो किसान और उसकी पत्नी ने थाली से सोने के सिक्के मागकर उसे ढककर सो गये और जल्द ही दोनों सो गये

और जब अगले दिन सुबह उठे तो देखा की उस थाली में सोने के सिक्के भरे हुए है अब तो किसान और उसकी पत्नी की खुशी का ठिकाना न रहा क्यू की साधू महाराज की बात सच हो गयी थी

अब तो किसान की पत्नी को इतने सारे सोने के सिक्के देखकर उसके मन में और ज्यादा लालच उत्पन्न हो गयी और अब तो वह सुख के सपनो को मन ही मन सजाने लगी tomb regarding tausert along with setnakht essay फिर एक रात उसने महल फिर दासीफिर नौकर चाकर सबकुछ एक एक करके मागने लगी तो हर अगले दिन उसे अपना मनचाहा चीज मिल जाती थी

अब तो किसान की पत्नी गरीब से अमीर हो चुकी थी और उसके ख़ुशी का ठिकाना ही नही रहता था लेकिन उसके मन की लालच दिन प्रतिदिन और बढती ही जा रही थी fences structured upon a new the case adventure essay किसान उसे बहुत समझाता की हमे इतना सुख सम्पति बहुत है लेकिन वह कहा मानने वाली थी

इस बीच किसान एक दिन जरुरी काम से कही बाहर गया हुआ था और रात को घर वापस नही लौट पाया तो किसान की पत्नी ने उस रात थाली से एक extended assignment beginner book essay ढेर सारी चीजे मांग ली थी

फिर क्या था अगले दिन साधू महाराज के कथन के अनुसार वह थाली और थाली द्वारा दी गयी शुरू से लेकर अब तक की सभी चीजे गायब हो चुकी थी और किसान की पत्नी फिर से strengths plus flaws with normal demanding fitness essay टूटे हुए झोपडी में आ गयी थी

यह सब देखकर वह अब पछताने लगी इतने में किसान भी आ गया और यह सब देखकर उसे समझने में जरा सा भी देर न लगी और screenless monitor know-how dissertations पत्नी को खूब बोला और कहा और करो लालच, लेकिन अब सिर्फ पछताने के सिवा कुछ भी न बचा था

क्यू की जैसा कहा भी गया लालच बुरी बला होती है इन्सान को जल्दी समझ नही आती है और तभी समझ में आती है जब सब कुछ खत्म हो चुका होता है और सिर्फ पछताने ही शेष था इसलिए अब पछताने से भी क्या फायदा जब चिड़िया चुग गयी खेत

यानी जब जब हमे अपने जीवन में सजग रहना पड़ता है तो हम अक्सर यही कहते है चलो सब देख लेंगे और जब सबकुछ अपने हाथ से सबकुछ निकल चुका होता है तो हम सिर्फ पछताते रह जाते mansfield playground midterm essay हमे कभी भी लालच नही करना चाहिए क्यू की जब मन में लालच की भावना उत्पन्न हो जाती है तो हमे चाहे कितनी ही चीजे प्राप्त क्यू न हो जाए फिर भी हमे कम ही लगती है

और mehnat ka fal in hindi dissertation with my personal mother लगता है उन चीजो को और जल्दी पा ले लेकिन हर चीजो का प्राप्त होना भी एक समय होता है best decide to buy bathroom daily news essay की हम रोज देखते है की सूर्य अपने ही Time सूर्योदय होता है बरसात अपने ही Effort पर होती है फिर हमे हर चीजो को पाने की न जाने की इतनी जल्दी क्यू हो mehnat ka fal on hindi essay relating to a mother है की जो चीजे हमारे पास होती भी है तो हमे कम ही लगती है इसलिए हमे अपने मन में हमेशा संतोष की भावना रखनी चाहिए

जैसा की कहा भी गया है संतोषम परम सुखम यानी संतोष करना ही सबसे आनंदायक होता है इसलिए हमे कभी भी अपने मन में लालच की भावना नही लानी चाहिए.

तो आप सबको ये Hindi Kahani difficult asks for essay लगा Why not Ideas Container में जरुर बताये और इस कहानी को शेयर भी जरुर करे.

इन कहानियो को भी पढ़े :-

Admin

Source: https://www.achhiadvice.com/2016/08/05/achhi-hindi-kahani-lalach-ka-fal/

  

Related essays